DElEd Semester 1 Science Short Question Answers Study Material Notes in Hindi

DElEd Semester 1 Science Short Question Answers Study Material Notes in Hindi

प्रश्न 26. किण्वन क्या हैं? किण्वन तथा अनॉक्सी श्वसन में अन्तर बताइए।

प्रश्न 26. किण्वन क्या हैं? किण्वन तथा अनॉक्सी श्वसन में अन्तर बताइए।

उत्तर – किण्वन – किण्वन वह प्रक्रिया है जो ऑक्सीजन की अनुपस्थिति में होती हैं तथा ग्लूकोज का अपूर्ण ऑक्सीकरण होता है जिसके परिणामस्वरूप एथिल एल्कोहल का निर्माण होता है। किण्वन की अभिक्रिया जीवित कोशिकाओं के बाहर होती है।

   जाइलम

C6H12O6+H2O +                C2H5OH + CO2 + ऊर्जा

   ग्लूकोज                     एल्कोहल

किण्वन की प्रक्रिया जाइलम एन्जाइम की उपस्थिति में होता है। जाइलम एन्जाइम यीस्ट कोशिका में पाया जाता है।

प्रश्न 28. श्वसन क्या है? इसके प्रकारों को बताइए।

उत्तर – जीवों की कोशिकाओं के अन्दर जैविक ऑक्सीकरण द्वारा कार्बनिक पदार्थों के क्रमिक अपघटन से चरणबद्ध क्रम में ऊर्जा मुक्त करने की प्रक्रिया को श्वसन कहा जाता हैष

श्वसन के प्रकार (Types of Respiration) – श्वसन दो प्रकार का होता है-

  1. ऑक्सी- श्वसन (Aerobic Respiration) जिस समय श्वसन स्वतन्त्र ऑक्सीजन की उपस्थिति में होता है, तो इसे ऑक्सी- श्वसन कहते हैं और ऐसी क्रिया करने वाले पौधों व जीवों को ऑक्सीजीवों (aerobes) कहते हैं। इस क्रिया
  2. अनॉक्सी श्वसन (Anaerobic Respiration)- जब श्वसन ऑक्सीजन की अनुपस्थिति में होता है, इसी कारण इसे अनॉक्सी श्वसन कहते हैं र इस प्रकार के श्वसन करने वाले जीवों को अनॉक्सीजीव कहते हैं। इस क्रिया में खाद्द पदार्तों का अपूर्ण ऑक्सीकरण होता है। जिसके फलस्वरूप एथिल ऐल्कोहॉल (C2H5OH), CO2 तथा ऊर्जा प्राप्त होती है।

प्रश्न 29. गति किसे कहते हैं? गति के प्रकार बताइए।

उत्तर – समय के साथ वस्तु की स्थिति में परिवर्तन को वस्तु की गति कहा जाता है। मुख्यत: गति को तीन भागों में विभक्त किया जा सकता है-
1. स्थानान्तरीय गति (Translatory motion)- जब कोई वस्तु एक सीधी रेखा में गति करती है तो ऐसी गति को स्थानान्तरीय गति कहते हैं। स्थानान्तरीय गति को रेखीय गति भी कहा जाता है। जैसे – सीधी पटरियों पर चलती रेलरगाड़ी स्थानान्तरीय गति में मूल बिन्दु से दायी ओर की दूरी को धनात्मक एवं बायीं ओर की दूरी को ऋणात्मक रूप में व्यक्त किया जाता है।

2 घूर्णन गति (Rotatory motion) – जब कोई पिण्ड किसी अक्ष में परित: घूमता है तो ऐसी गति को घूर्णन गति कहा जाता है। जैसे – पृथ्वी का अपने अक्ष पर घूमना, घूर्णन गति का प्रमुख उदाहरण है।

3 कम्पनीय गति (Vibratory motion) – जब कोई वस्तु निश्चित बिन्दु के इधर- उधर गति करती हैं तो इसे कम्पनीय गति कहा जाता है। जैसे घड़ी के लोलक का अपनी मध्यमान स्थिति के दोनों ओर दोलन करना है।

Tagged with: , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*