UPTET Paper Level 1 Samanya Hindi Sandhi Question Answer Paper

UPTET Paper Level 1 Samanya Hindi Sandhi Question Answer Paper Uttar PradeshTeacher Eligibility Test (UPTET) Most Important Question Answer Papers in Hindi English PDF Download.

संधि

UPTET Paper Level 1 Class 1 to 5 Question Answer Sample Model Practice Set.

दो वर्णों के पास-पास आने पर उनमें ,जो विकार सहित मेल होता है, उसे संधि कहते हैं.जैसे-गंगा+उदक= गंगोदक, हिम+आलय= हिमालय, रमा+ईश=रमेश.

UPTET Paper Level 1 Samanya Hindi Sandhi Question Answer Paper

UPTET Paper Level 1 Samanya Hindi Sandhi Question Answer Paper

संधियाँ तीन प्रकार की होती हैं- 1. स्वर संधि, 2. व्यंजन संधि, 3. विसर्ग संधि .

  1. स्वर संधि- दो स्वरों के निकट आने पर उनमें जो विकार सहित मेल होता है उस रूपान्तरण को स्वर संधि कहा जाता है.

स्वर संधियाँ पाँच प्रकार की होती हैं-

  • दीर्घ स्वर संधि, (ब) गुण स्वर संधि, (स) यण स्वर संधि, (द) वृद्धि स्वर संधि, (इ) अयादि स्वर संधि.

दीर्घ स्वर संधि– जब दो स्वर्णी सवर पास-पास आते हैं, तो मिलकर दीर्घ हो जाते हैं,यथा-

पुस्तक+आलय=पुस्तकालय

हिम+आलय= हिमालय

कवि+इन्द्र= कवीन्द्र

गिरि+ ईश= गिरीश

सती+ ईश=सतीश

अनु+ उदित= अनूदित

वधू+ उत्सव= वधूत्सव

पित्+ऋण= पितृण

परम+अर्थ= परमार्थ

स्व+अर्थ= स्वार्थ

महा+आशय= महाशय

गुण स्वर संधि– यदि अ अथवा आ के बाद इ अथवा ई हो,  तो दोनों मिलकर ए हो जाते हैं तथा अ के बाद उ हो तो ओ और ऋ हो, तो अर् हो जाते हैं. यथा-

देव+इन्द्र=देवेन्द्र

नर+ई= नरेश

महा+इन्द्र=महेन्द्र

देव+ईश=देवेश

भाग्य+उदय=भाग्योदय

चन्द्र+उदय=चन्द्रोदय

नयन+उत्सव=नयनोत्सव

महा+उत्सव= महोत्सव

महा+ऋषि=महर्षि

गण+ईश=गणेश

पर+उपकार= परोपकार

प्रजा+ईश= प्रजेश

रमा+ईश=रमेश

यण संधि- इ,ई,उ, ऊ, और ऋ के बाद कोई भिन्न स्वर आए , तो इनका परिवर्तन क्रमशः य् , व्, और र्, में हो जाता है. यथा- इति+आदि=इत्यादि

देवी+आवाहन=देव्यावाहन

सु+आगत= स्वागत

पितृ+आदेश=पिता

अनु+ एषण= अन्वेषण

प्रति+उपकार= प्रत्युपकार

अभि+अर्थी=अभ्यार्थी

अधि+आदेश=अध्यादेश

नि+ऊन=न्यून

सु+आगत=स्वागत

प्रति+एक=प्रत्येक

वृद्धि संधि-अ अथवा आ के बाद ए, ऐ होने पर ऐ और अ अथवा आ के बाद ओ, औ होने पर औ हो जाता है.यथा-

एक+ एक= एकेक

सदा+एव= सदैव

जल+ ओध= जलौध

परम+ औषध= परमौषध

महा+ औदार्य= महौदार्य

तथा+एव=तथैव

महा+ ओजस्वी= महौजस्वी

मत+ ऐक्य= मतैक्य

अयादि संधि- ए,ऐ के बाद अन्य स्वर हो, तो अय, आय, तथा ओ. औ के बाद अन्य स्वर हो, तो अव, आव हो जाता है. यथा-

ने+ अन= नयन

नै+अक=नायक

पौ+अक= पावक

पो+अन=पवन

गै+अक= गायक

भो+अन= भवन

पौ+अन=पावन

चे+अन= चयन

श्रो+अन=श्रवण

  1. व्यंजन संधि-व्यंजन के साथ स्वर या व्यंजन के मेल से, जो रूपान्तरण होता है, उसे व्यंजन संधि कहा जाता है. यथा-

जगत्+नाथ= जगन्नाथ

जगत+ईश=जगदीश

सत्+गुरु=सद्गुरु

सत्+जन=सज्जन

दिक्+गज= दिग्गज

वाक्+ईश=वागीश

सत्+मार्ग= सन्मार्ग

दिक्+दर्शन= दिग्दर्शन

उत्+लास= उल्लास

आ+छादन=आच्छादन

अनु+छेद= अनुच्छेद

वाक्+मय= वाङ्मय

अच+अन्त=अजन्त

षट्+मास= षण्मास

भगवत्+गीता= भगवद्गीता

चित्+मय= चिन्मय

तत्+लीन=तल्लीन

उत्+चारण=उच्चारण

सत्+जन=सज्जन

उत्+उद्घाटन

  1. विसर्ग संधि-विसर्ग के साथ स्वर या व्यंजन का मेल होने, पर , जो रूपान्तरण होता है उसे विसर्ग संधि कहते हैं. यथा-

मनः+रथ=मनोरथ

मनः+अनुकूल=मनोनुकूल

यथः+ अभिलाषा=यथोभिलाषा

मनः+हर=मनोहर

निः+चय=निश्चय

निः+छल=निश्छल

दुः+गंध=दुर्गन्ध

निः+संदेह= निस्संदेह

निः+कपट=निष्कपट

पुरः+कार=पुरस्कार

पयः+द= पयोद

दुः+कर=दुस्कर

दुः+साहस=दुस्साहस

दुः+तर=दुस्तर

हरिः+चन्द्र=हरिश्चन्द्र

यशः+धरा=यशोधरा

निः+विकार= निर्विकार

अतः+एव=अतएव

सरः+ज=सरोज

निः+गुण=निर्गुण

निः+चल=निश्चल


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*