A2zNotes.com

DElEd Semester 1 Science Short Question Answers Study Material Notes in Hindi

DElEd Semester 1 Science Short Question Answers Study Material in Hindi

DElEd Semester 1 Science Short Question Answers Study Material Notes in Hindi

प्रश्न 17. पौधों में लैंगिक जनन का वर्णन कीजिए।

उत्तर – लैंगिक जनन में अर्धसूत्री कोशिका विभाजन द्वारा हैप्लॉयड जनन कोशिका अथवा युग्मक बनते हैं, जो दो प्रका के होते हैं- नर युग्मक तथा मादा युग्मक । एक नर एवं एक मादक युग्मक के मिलने से डिप्लॉयड य़ुग्मनज (Zygote) बनता है जो बारम्बारता विभाजित होकर बीज बनाता है। बीज नवीन पौदे को जन्म देता है। अत: लैंगिक जनन को निम्नलिखित चार चरणों में विभक्त किया जा सकता है-

  1. युग्मक जनन – अर्धसूत्री विभाजन द्वारा अगुणित युग्मक कोशिका का निर्माण युग्मक जनन कहलाता है। यह दो प्रकार का होता है-
  2. नर युग्मक जनन, (b) मादा युग्मक जनन।
  3. परागण – पराग कणों का पराग कोषों से निकलकर स्त्री केसर के वर्तिकाग्र तक पहुँचने की क्रिया।
  4. निवेचन – नर तथा मादा युग्मक केन्द्रकों के मिलने से दिगुणित युग्मनज गाइजोइट का निर्माण।

प्रश्न 18. भ्रूणकोष क विकास बताइए।

उत्तर – कार्यरत गुरूबीजाणु में सूत्री विभाजन के पूर्व दो, फिर दो से चार तथा चार से आठ केन्द्रक बनते हैं, जिसके चारों ओर थोडा थोड़ा कोशिकाद्रव्य एकत्र हो जाता है। भ्रूणकोष के आठ केद्रकों में से चार एक सिरे पर एवं चार दूसरे सिरे पर होते हैं। भ्रूणकोष मध्यम गति से आकार में बढ़ता है। दोनों सिरों के केद्रक ध्रुवीय केन्द्रक (polar nuclei) कहलाते हैं। इनके मध्य में उपस्थित केन्द्रकों को जुड़ने से दितीयक केन्द्रक (secondary nucleus) बनता है। इसमें बीजाण्डद्वारा (micropyle) की ओर उपस्थित तीन केन्द्रकों के समूह को अण्ड उपकरण (Egg apparatus) तथा निभाग की तरफ के तीन केन्द्रकों के समूह को प्रतिव्यासांत कोशिकाएँ कहते हैं।

ये सहायक कोशिकाएँ निषेचन में मदद करती हैं।

इस प्रकार विकसित भ्रूणकोण को पोलीगोनम टाइप भ्रूणकोष तथा मादा युग्मकोद्भिद् कहा जाता है।

प्रो. पी. माहेश्वरी के अनुसार भ्रूणकोष मुख्य्त: तीन प्रकार के होते हैं-

  • मोनोस्पोरिक (Monosporic) – जब भ्रूणकोष का निर्माण चार में से एक (अण्डद्वारी या निभागी) गूरूबीजाणु द्वारा होता है, जैसे- पोलीगोनम टाइप तथा ओइनोथेरा टाइप।

(ब) बाइस्पोरिक (Bisporic)- जब गुरूबीजाणु मातृकोशिका में अर्द्धसूत्री विभाजन द्वारा चार की जगह केवल दो ही कोशिकाएं निर्मित हैं अर्थात् दूसरे विभाजन के बाद कोशिका भित्ति नहीं बनती है फलत: दोनों कोशिकाओं में दो दो केन्द्रक बनते हैं। एक कोशिका (दिकेन्द्रकीय) से भ्रूणकोष बनता है एवं दूसरी स्वत: ही नष्ट हो जाती है, जैसे – प्याज (onion)

प्रश्न 19. विज्ञान से आप क्या समझते हैं? इसकी शाखाएँ बताइए।

उत्तर – विज्ञान को अंग्रेजी में साइन्स कहते हैं। साइन्स (science) शब्द की उत्पत्ति लैटिन भाषा के शब्द सिंटिया (scientia) से हुई है, जिसका अर्थ है- जानना (to know) अर्थात् ज्ञात प्राप्त करना। सन्धि विच्धेद है- वि + ज्ञान अर्थात् विशेष ज्ञान। यह ज्ञान प्राय: प्राकृतिक घटनाओं के ज्ञान से सम्बन्धित होता है। इस आधार पर हम कह सकते हैं कि प्राकृतिक घटनाओं के प्रेक्षण पर आधारित क्रमबद्ध एवं व्यवस्थित ज्ञान को विज्ञान कहा जाता है।

विज्ञान की कुछ प्रमुख शाखाएँ

  1. भौतिकी या भौकित विज्ञान, 2. रसायन विज्ञान, 3. प्राणि विज्ञान, 4. वनस्पति विज्ञान, 5. भू- गर्भ विज्ञान, 6. खगोल विज्ञान

भौतिकी, विज्ञान की एक महत्वपूर्ण शाखा है, इसे अंग्रेजी में फिजिक्स (Physics) कहा जाता है। यह शब्द ग्रीक भाषा के शब्द फ्यूसिर (Fusis) से बना है जिसका अर्थ प्रकृति (nature) है।

परिभाषा – भौतिकी, विज्ञान की वह शाखा है जिसमें द्रव्य तथा ऊर्जी के विविध रूपों एवं उनकी अन्योंन्य क्रियाओं (mutual interactions) का अध्ययन किया जाता है।

🤞 Don’t miss these Notes!

We don’t spam! Read more in our privacy policy

Leave a Comment

Your email address will not be published.