A2zNotes.com -Best Bcom BBA Bed Study Material

UPTET Paper Level 1 Bal Vikas Shiksha Shastra Adhyapan Vidhi Question Answer Papers

UPTET Paper Level 1 Bal Vikas Shiksha Shastra Adhyapan Vidhi Question Answer Papers

  1. निम्नलिखित में से अध्यापक के लिए सर्वाधिक आवश्यक है ?
  • संतोषी होना
  • अध्ययनशील होना
  • अपने विषय का पूर्ण ज्ञाता होना
  • बहुत अच्छे कपङे पहनने वाला
  1. निम्नलिखित में से किस कारण आप अध्ययन कार्य को पसंद कर रहे हैं?
  • यह व्यवसाय सर्वाधिक अवकाश वाला है
  • आपके माता – पिता आपको शिक्षक बनने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं
  • आपके परिवार का कोई भी सदस्य इस व्यवसाय में नहीं है
  • प्रारम्भ से ही आपकी रुचि पढने या पढाने में रही है
  1. पाठ्य पुस्तकों के अतिरिक्त अन्य पुस्तकों के पढने से निम्नलिखित में से शिक्षकों को सर्वाधिक लाभ होता है-
  • आत्मसंतोष की प्राप्ति
  • अनुसंधान कार्य में सहायता
  • सर्वांगीण ज्ञान का विकास
  • समय का सदुपयोग
  1. आपके विचार से निम्नलिखित में से कौन उत्तम शिक्षक है?
  • जो उच्च आदर्शपूर्ण बातों पर जोर देता है
  • जिसकी कथनी एवं करनी में समानता हो
  • जो लच्छेदार वाकशैली से युक्त हो
  • जो लोगों से शीघ्र सम्बन्ध बनाने की योग्यता रखता हो
  1. निम्नलिखित में से सफल शिक्षक किसे माना जाता है?
  • जिसकी अभिव्यक्ति प्रभावकारी हो
  • जिसका अनुशासन अत्यन्त कठोर हो
  • जो कक्षा में विधार्थियों का पर्याप्त मनोरंजन करता है
  • जो विषय का गहन ज्ञान रखता हो
  1. वह शिक्षक समाज में महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त कर सकता है, जो –
  • विदान् एवं मौलिक चिन्तक हो
  • अपने उत्तरदायित्व का ईमानदारीपूर्वक निर्वाह करता हो
  • सत्तारूढ राजनीतिक पार्टी में सक्रिय सदस्य की भूमिका निर्वाहित करता हो
  • सामाजिक क्रियाकलापों में सक्रिय भाग लेता है

  1. अध्यापक के लिए निम्नलिखित में से सर्वाधिक आवश्यक विशेषता है-
  • समाज सेवा
  • विषय का गहन ज्ञान
  • कठोर परिश्रम
  • देश के प्रति अगाध प्रेम
  1. अध्यापक का सदाचारी होना आवश्यक है, क्योंकि –
  • इससे समाज में अध्यापक की प्रतिष्ठा बढती है
  • अध्यापक राष्ट्र निर्माता है
  • अध्यापक विधार्थियों के लिए अनुकरणीय होता है
  • इससे शिक्षण प्रभावित होता है
  1. शिक्षा के पतन को रोकने हेतु सरकार को निम्न में से क्या करना चाहिए?
  • अतीत में गठित किए गए शिक्षा आयोगों का अध्ययन कर उनका क्रियान्वन करना चाहिए
  • एक शिक्षा – नीति बनानी होगी जिसमें वर्तमान सन्दर्भों में शिक्षा में परिवर्तन लाने के लिए योजना होनी चाहिए
  • शिक्षा में मूलभूत परिवर्तन करना चाहिए
  • ईमानदारी , निष्ठापूर्वक व निहित स्वार्थों से मुक्त होकर निर्धारित कार्यक्रम को लागू करनी चाहिए
  1. शिक्षक के प्रशिक्षण में प्रवेश हेतु वर्तमान व्यवस्था को परिवर्तित करना आवश्यक है, जिससे प्रशिक्षण का लाभ उठाया जा सके, इसके लिए-
  • प्रवेश सीमित कर देना चाहिए
  • अध्यापन प्रशिक्षण केवल उन अप्रशिक्षित अध्यापकों के लिए दिया जाना चाहिए जो पहले बेरोजगारी से ग्रस्त थे
  • प्रवेश मेरिट के आधार पर कॉलेज को ही करना चाहिए
  • प्रवेश के लिए शिक्षण अभिक्षमता का परीक्षण होना चाहिए
  1. विधालय में बच्चों के कार्य-निष्पादन एवं व्यवहार परिमार्जन के मूल्यांकन हेतु सर्वाधिक आवश्यक है, शिक्षक में
  • नियमितता , परिश्रम , सहगामी क्रियाओं में सह-भागिता एवं पक्षपात रहित परीक्षा संचालन के गुण
  • वार्षिक परीक्षा का आयोजन करना
  • विधालय की सहभागी क्रियाओं में भागीदारी लेने का गुण
  1. शिक्षण को सार्थक , उपयोगी और सरल बनाने के लिए किन-किन विधियों का प्रयोग किया जाता है?
  • निगमन और आगमन विधि
  • खेल और किंडरगार्टन विधि
  • नाटकीय और योजना विधि
  • उपर्युक्त सभी
  1. निगमन विधि कहतें हैं-
  • सामान्य से विशिष्ट की ओर जाना
  • विशिष्ट से सामान्य की ओर जाना
  • A और B दोनों
  • उपर्यक्त सभी
  1. मनोवैज्ञानिकों ने निगमन विधि को उपयोगी बताया है-
  • उच्च कक्षा के छात्रों के लिए
  • निम्न कक्षा के छात्रों के लिए
  • A और B दोनों के लिए
  • उपर्युक्त में से कोई नहीं

  1. निगमन विधि उच्च कक्षा के छात्रों के लिए उपयोगी मानी गई है, क्योंकि –
  • उच्च कक्षा के छात्र परिपक्व आयु के होते हैं
  • उनका मानसिक विकास ज्यादा होता है
  • चिन्तन क्षमता भी ज्यादा होती है
  • उपर्युक्त सभी
  1. आगमन विधि से अभिप्राय है-
  • सामान्य से विशेष की ओर जाना
  • विशेष से सामान्य की ओर जानाप
  • A और B दोनों
  • उपर्युक्त में से कोई नहीं
  1. प्राथमिक कक्षा के छात्रों के लिए निम्न शिक्षण विधियों में से अधिक उपयोगी शिक्षण विधि है-
  • आगमन विधि
  • निगमन विधि
  • A और B दोनों
  • उपर्युक्त में से किसी के लिए नहीं
  1. शिक्षण की खेल विधि निम्नलिखित में से किस वर्ग के छात्रों के लिए अधिक उपयोगी हैं?
  • उच्च वर्ग के वयस्क छात्रों के लिए
  • केवल शिशु वर्ग के लिए
  • (A) और (B) दोनों
  • उपर्युक्त में से किसी के लिए नहीं
  1. किंडरगार्टन अध्यापन विधि के जन्मदाता हैं-
  • फ्रॉबेल
  • मॉण्टेसरी
  • जॉन ड्यूवी
  • आर्मस्ट्राँग
  1. फ्रॉबेल ने शिक्षण का सबसे उपयोगी माध्यम माना है-
  • खेल को
  • मनोरंजन को
  • पढाई को
  • उपर्युक्त में से किसी को नहीं
  1. फ्रॉबेल के अनुसार शिक्षक का कार्य है-
  • बच्चों को खेल की प्रेरणा देना
  • खेल के उचित एवं लाभप्रद तत्वों को प्रोत्साहित करना
  • अनुचित एवं हानिप्रद तत्वों को हतोत्साहित करना
  • उपर्युक्त सभी
  1. किंडरगार्टन प्रणाली मुख्यतः आधारित है-
  • आगमन विधि पर
  • निगमन विधि पर
  • खेल विधि पर
  • उपर्युक्त में से कोई नहीं
  1. मॉण्टेसरी शिक्षा प्रणाली के जन्मदाता हैं-
  • फॉबेल
  • जॉन ड्यूवी
  • आर्मस्ट्राँग
  • मारिया मॉण्टेसरी
  1. मॉण्टेसरी प्रणाली में विधालय को कहा जाता है-
  • शिक्षा भवन
  • बाल भवन
  • मनोरंजन का स्थान
  • उपर्युक्त सभी


Leave a Comment

Your email address will not be published.